Pyar Bhari Shayari Collection

Pyar Ki Shayari, Pyar BhariShayari, Pyar Shayari, Latest Pyar Shayari, Pyaar Bhari Shayari In Hindi, Hindi Pyaar Bhari Shayari, Pyar Ki Shayari

Pyar Ki Shayari

Pyar Ki Shayari

चलो बंद करले खिड़किया दरवाजे सभी
पता चले उनको क्या होता है दिल से उतर जाना

✮ Pyar Ki Shayari Collection✮ 

जो ऐसा है तो अब सांसे थम जाये मेरी
सुना है लोग आखरी दीदार को आते है


कहानी ख़त्म हुई तब मुझे ख़याल आया
तिरे सिवा भी तो किरदार थे कहानी में

✮ Pyar Bhari Shayari ✮ 

वो मुस्कुरा के मुकरने की अदा जानता है
मैं भी आदत बदल लेता तो सुकून में होता


अपनी मंज़िल पे पहुँचना भी खड़े रहना भी
कितना मुश्किल है बड़े हो के बड़े रहना भी

Pyar Bhari Shayari In Hindi✮ 

ज़िंदगी तुझ से हर इक साँस पे समझौता करूँ
शौक़ जीने का है मुझ को मगर इतना भी नहीं


महबूब से, हम आशिक हो गए
ख़ुदा के रहते काफ़िर हो गए

✮ Pyar Ki Shayari✮ 

चलो यूँ ही सही तुमने माना तो सही
मजबूर कही हम थे ये जाना तो सही
कब कहा हमने की हम बेगुनाह थे
कुछ गुनहगार तुम भी थे ये माना तो सही


जिस जिसका मैं हुआ नहीं
उसकी जिंदगी सवर गयी
मैं राह देखता रहा जाने किसकी
और इन्ही राहों पे ये जिंदगी गुजर गयी

Pyar shayari In Hindi✮ 


हो जाने दो सुबह की अभी रात बाकी है
सुनहरी आँखों में अधूरे सपनो का निशान बाकी है
अभी तो मदहोश है कतरा कतरा, सारा आलम
मुहब्बत की बाँहो में किसी का अरमान बाकी है

प्यार की शायरी✮ 

बड़े शौख से आँखों में रहा करता था कोई,आज हमने उसे दिल में भी जगह ना दी


मेरी तकदीर का कोई फ़साना ना रहा
मैं जिस राह से गुजरा कोई ठिकाना ना रहा
मुझे ही हासिल है रुस्वाइयाँ प्यार की
ना हम किसी के रहे कोई हमारा ना रहा

प्यार शायरी ✮ 


गरीब हूँ मैं पर गैरत के करीब हूँ
ज़माने की शोहरत के करीब हूँ
दौलत का नशा तेरे सर चढ़ा होगा
मैं अब तक अपने घर के करीब हूँ
होगा तुझे गैरों ने माना बहुत
मैं खुश हूँ जो अपनों के करीब हूँ

प्यार भरी शायरी✮ 


जहां कीमत नहीं जस्बातो की हम वहाँ इश्क़ कर बैठे हैं
अब अंजामे फिक्र क्या करे जब हम इश्क़ कर बैठे है
कोई दर्द अब बाकी रहा क्या जब हम इश्क़ कर बैठे है
आज रोता हुआ देखा उनको वो भी किसी से इश्क़ कर बैठे है

हिन्दी प्यार भरी शायरी✮ 


कुछ इस तरह मैंने ज़िन्दगी को आसान कर लिया
किसी से मांग ली माफ़ी, किसी को माफ़ कर लिया

प्यार पे शायरी✮ 

सुब्ह होती है शाम होती है
उम्र यूँही तमाम होती है


हर बार हम पर इल्जाम लगा देते हो मोहब्बत का
कभी खुद से भी पूछा है इतनी खुबसूरत क्यों हो

कहीं तुम भी न बन जाना किरदार किसी किताब का
लोग बड़े शौक से पढ़ते है कहानिया बेवफाओं की..

जुदा किसी से किसी का ग़रज़ हबीब न हो
ये दाग़ वो है कि दुश्मन को भी नसीब न हो

प्यार वाली शायरी ✮ 

Related Shayari

English Shayari